advertisement
advertisement

Upi क्या है और यह कैसे काम करता है। Upi से संबंधित संपूर्ण जानकारी हिंदी में।

advertisement

जब से हमारे देश की सरकार ने सभी चीजों को डिजिटलीकरण किया है, तब से लगभग सभी क्षेत्रों में सभी प्रकार के कार्यों को online internet की सहायता से ही किया जा रहा है।

advertisement

नोटबंदी के बाद से आज के समय में लगभग पैसों के लेनदेन में लोग ऑनलाइन तरीकों का ही इस्तेमाल करना बेहद पसंद करते हैं।

advertisement

आज के समय में online भुगतान करना बेहद आसान है और किसी भी चीज को खरीदने के बाद हम उसका payment online रूप में कर सकते हैं।

advertisement

Online transaction को बढ़ावा प्रदान करने के लिए UPI का सहारा लिया जा रहा है ।

UPI के माध्यम से हम बड़ी ही आसानी से पैसे के लेनदेन बस चंद सेकंड में कर सकते हैं। आज हम अपने इस लेख के माध्यम से आप सभी लोगों को UPI क्या है ?, UPI का इस्तेमाल कैसे किया जाता है ?, एवं UPI से संबंधित महत्वपूर्ण जानकारी क्या-क्या है ?, इस विषय पर विस्तार पूर्वक इस लेख में जानकारी प्रदान करने वाले हैं। आज के हमारे इस महत्वपूर्ण लेखकों आप सभी लोग अंतिम तक अवश्य पढ़ें।

advertisement
UPI क्या है – What is UPI in Hindi
advertisement

UPI क्या है – What is UPI in Hindi

UPI Kya Hota hai

यूपीआई का इस्तेमाल करके हम एक या एक से अधिक बैंक खातों का उपयोग बड़ी ही आसानी से कर सकते हैं। साधारण शब्दों में यूपीआई की मदद से हम एक या एक से अधिक बैंक खातों में से पैसे आदान-प्रदान बड़ी ही आसानी से कर सकते हैं।

advertisement

मोबाइल फोन के माध्यम से किए जा रहे आज के जमाने की यह ट्रांजैक्शन को नियंत्रण करने का कार्य भारतीय रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया करती है।आज के समय में यूपीआई सपोर्ट करने वाली अनेकों एप्लीकेशन आपको गूगल प्ले स्टोर पर मिल जाएगी।

advertisement

आज के समय में किसी भी प्रकार के पैसों से संबंधित ऑनलाइन ट्रांजैक्शन में यूपीआई अपनी अहम भूमिका निभा रहा है।

वास्तव में यूपीआई की शुरुआत हमारे भारत देश में करीब 11 अप्रैल वर्ष 2016 को हुई यानी कि नोटबंदी के दौरान यूटीआई ने पैसों के ट्रांजैक्शन में एक नई प्रणाली की शुरुआत की जो कि बिल्कुल ऑनलाइन रूप में है और बेहद ही सुरक्षित है।

advertisement

नोटबंदी के दौरान लोगों को खाने-पीने की चीजों को खरीदने में काफी ज्यादा समस्याओं का सामना करना पड़ता था, क्योंकि उस दौरान ऑनलाइन ट्रांजैक्शन नाम की कोई चीज नहीं हुआ करती थी।

ऑनलाइन ट्रांजैक्शन को बढ़ावा प्रदान करने के लिए भारतीय राष्ट्रीय भुगतान निगम एवं भारतीय रिजर्व बैंक के द्वारा इस नई ऑनलाइन ट्रांजैक्शन प्रणाली का प्रारंभ किया गया।

 

Upi का फुल फॉर्म क्या है

यूपीआई का फुल फॉर्म ‘unified payment interface’ है और इसे हिंदी में ‘एकीकृत भुगतान अन्तरापृष्ठ’ कहते हैं।

VPA क्या होता है?

वीपीए एक यूनिक आईडी होती है, जो बैंक खाते से डायरेक्ट लिंक होती है। यदि हमें वीपीए आईडी का पता होता है, तो हम बड़ी ही आसानी से किसी भी बैंक खाताधारक को पैसे ऑनलाइन यूपीआई की सहायता से भेज सकते हैं। वीपीए का फुल फॉर्म ‘virtual payment address’ होता है। असल में वीपीए को ही हम यूपीआई आईडी के नाम से जानते हैं।

Upi कैसे काम करता है ?

Upi बिना किसी एक्स्ट्रा चार्ज के 24 घंटे 365 दिन हमारी सेवा में तत्पर रहता है। Upi की सहायता से हम कभी भी किसी को भी आसानी से पैसों का आदान-प्रदान कर सकते हैं। Upi IPMS के अंतर्गत कार्य करता है।

सभी बैंक जो भी सुविधाएं अपने उपभोक्ताओं को प्रदान करती हैं, उन सभी सुविधाओं को नियंत्रित एवं ग्राहकों को प्रदान करने का कार्य आइएमपीएस ही करता है।

IPMS किसी एक बैंक को ही नहीं अपितु भारत में सभी बैंकों को नियंत्रित करने एवं उनकी सुविधाओं को ग्राहकों तक पहुंचाने का एक माध्यम है। यूपीआई ट्रांजैक्शन में भी IMPS अपनी अहम भूमिका निभाता है।

बैंकों में लंबी-लंबी लाइनों में खड़े हुए बिना आप आसानी से पैसों का आदान-प्रदान कर सकते हैं, वह भी अपने समय के मुताबिक।

Upi पिन क्या होता है ?

जिस प्रकार से हमें एटीएम से पैसे निकालने के लिए सिक्योरिटी पिन की जरूरत पड़ती है, उसी प्रकार से ऑनलाइन पैसे UPI के माध्यम से भेजने में भी हमें UPI PIN की बेहद आवश्यकता पड़ती है।

बिना UPI PIN के हम किसी को भी पैसे स्थानांतरित नहीं कर सकते हैं। UPI PIN अलग-अलग बैंकों के नियमानुसार 4 या फिर 6 अंक के निर्धारित किए जाते हैं।

एसबीआई खाताधारकों को 6 अंक का UPI PIN बनाना पड़ता है और वहीं पर यूनियन बैंक ऑफ इंडिया में UPI बनाने हेतु मात्र 4 अंक का ही इस्तेमाल किया जाता है। साधारण शब्द में बिना UPI PIN के हम ऑनलाइन पैसे स्थानांतरित नहीं कर सकते हैं।

Upi आईडी कैसे बनाते हैं ?

UPI आईडी बनाने के लिए आपको किसी भी बैंक में जाने की आवश्यकता नहीं है, बस आपके पास आपके खाते में रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर और कुछ अन्य खाते से संबंधित जानकारी होनी चाहिए।

अब आइए आगे जानते हैं, कि आप किस प्रकार से बड़े ही आसानी से UPI आईडी बना सकते हैं। UPI आईडी बनाने की प्रक्रिया इस प्रकार से निम्नलिखित है।

भीम UPI बनाने की प्रक्रिया :-

 

  • Step 1 . UPI आईडी बनाने के लिए आप गूगल प्ले स्टोर से किसी भी प्रकार के UPI को सपोर्ट करने वाले एप्लीकेशन का इस्तेमाल कर सकते हैं। यदि आप चाहें तो गूगल प्ले स्टोर से भीम UPI को भी अपने फोन में इंस्टॉल कर सकते हैं।
  • Step 2 . भीम UPI को अपने फोन में इंस्टॉल करने के बाद इसे ओपन कर लेना है। अब इसमें आप अपनी पसंदीदा भाषा का चुनाव कर सकते हैं।
  • Step 3 . अब यहां पर आप अपनी भाषा का चुनाव करने के बाद ‘NEXT’ नामक विकल्प पर क्लिक कर दें। अब आगे आपको ‘Get Started’ नामक एक और विकल्प दिखाई देगा, इस पर आपको क्लिक कर देना है।
  • Step 4 . अब आगे आपको अपने बैंक में रजिस्टर मोबाइल नंबर को वेरीफाई करने का कार्य करना है। आपको जिस मोबाइल नंबर को वेरीफाई करना है, वह सिम वन में है, तो सिम वन का सिलेक्शन कर ले या सिम टू है, तो सिम 2 का सिलेक्शन कर दीजिए।
  • Step 5 . अब आपके खाते में रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर को वेरीफाई करने के लिए आपका बैंक एक OTP भेजेगा।
  • Step 6 . आपका नंबर वेरीफाई हो जाने के बाद अब आगे आपको एक पासकोड तैयार करना है, यह पासकोड आपको UPI एप्लीकेशन में इंटर करने के लिए काम में आता है।
  • Step 7 . अब आगे की प्रक्रिया में आपको अपना बैंक खाता UPI के साथ अटैच करके वेरीफाई करना है। बैंक खाता वेरीफाई होने के बाद आपका UPI आसानी से बन कर तैयार हो जाता है।

नोट्स :- आप सभी लोगों को गूगल के प्ले स्टोर और ऐप स्टोर पर हजारों UPI सपोर्ट करने वाले एप्लीकेशन मिल जाएंगे, परंतु एक trusted एवं verify upi एप्लीकेशन का ही इस्तेमाल करें।

अलग-अलग UPI को सपोर्ट करने वाले एप्लीकेशन अपनी रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया को एक दूसरे से थोड़ा अलग करके रखते हैं। इसीलिए UPI रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया अलग अलग हो सकती है।

Upi Pin कैसे बनाते हैं ?

आपने तो इस लेख में जान लिया कि यूपीआई पिन क्या होता है ?, एवं इसका क्या कार्य है। अब हम आगे जानेंगे, कि यूपीआई पिन बनाने की क्या प्रक्रिया है ?। यूपीआई पिन बनाने के लिए हमारे द्वारा बताए गए आसान स्टेप को फॉलो करें।

  • Step 1 . किसी भी एप्लीकेशन में UPI आईडी बनाने के लिए आपको सबसे पहले क्रेडिट कार्ड या फिर डेबिट कार्ड की आवश्यकता पड़ेगी।
  • Step 2 . क्रेडिट कार्ड या फिर डेबिट कार्ड पर जो 16 अंकों का नंबर प्रदान किया जाता है, उसी की सहायता से आपको अपना UPI पिन जनरेट करना पड़ेगा।
  • Step 3 . जब आपका बैंक आपके UPI सपोर्ट किए जाने वाले एप्लीकेशन में वेरीफाई हो जाता है, तो बस आगे आपको अपना UPI PIN जनरेट करना पड़ता है।
  • Step 4 . UPI PIN 6 अंक या फिर 4 अंक का हो सकता है। अलग-अलग बैंक अपने नियमानुसार इसे निर्धारित करते हैं।
  • Step 5 . UPI PIN बनाने के बाद इसी के माध्यम से आप अपने पैसों को किसी के भी बैंक खाते में या फिर अन्य प्रकार के ट्रांजैक्शन हेतु इसका इस्तेमाल कर सकते हैं।

नोट्स :- कभी भी अपने UPI PIN को किसी भी व्यक्ति के साथ साझा ना करें। जिस प्रकार से हम अपने एटीएम कार्ड के पिन को किसी अन्य व्यक्ति के साथ साझा ना करें ।

यूपीआई के जरिए हम कैसे पैसे को ट्रांसफर करें ?

यदि आप अपना UPI आईडी बना लेते हैं, तो आपको ऑनलाइन किसी भी प्रकार के ट्रांजैक्शन में बड़ी आसानी हो जाती है।

UPI से ट्रांजैक्शन करने के लिए बस आपको UPI धारक का यूपीआई ऐड्रेस, बैंक खाता संख्या एवं IFSC कोड, और UPI में पंजीकृत मोबाइल नंबर की आवश्यकता पड़ती है।इन सभी चीजों के माध्यम से बेहद ही आसानी से किसी को भी पैसे ट्रांसफर या फिर प्राप्त कर सकते हैं।

यूपीआई सपोर्ट करने वाले पांच बेहतरीन ऐप कौन-कौन से हैं ?

वैसे तो आप सभी लोगों को गूगल के प्ले स्टोर पर या आईओएस प्लेटफॉर्म के एप स्टोर पर अनेकों UPI सपोर्ट करने वाले एप्लीकेशन मिल जाएंगे।मगर हम आप सभी लोगों को अपने इस लेख में UPI सपोर्ट करने वाले पांच बेहतरीन Trusted एप्लीकेशन के बारे में बताएंगे, जो इस प्रकार से निम्नलिखित हैं।

  • Bhim UPI
  • Phone pay
  • Google pay
  • MobiKwik
  • Jio money
  • Airtel payment
  • Paytm
  • Truecaller
  • Amazon pay

नोट्स :- ऐसे ही आने को upi सपोर्ट करने वाले पेमेंट एप्लीकेशन मिल जाएंगे आपको परंतु किसी भी एप्लीकेशन का इस्तेमाल करने से पहले उसकी जांच पड़ताल अवश्य करें।

यूपीआई सपोर्ट करने वाले बैंकों की सूची ?

वैसे तो आज के समय में सभी बैंक यूपीआई को सपोर्ट करते हैं, परंतु यदि हम आपको अपने इस लेख के माध्यम से कुछ बैंकों की सूची प्रदान कर रहे हैं, जो इस प्रकार से दिए गए हैं।

  1. State Bank of India
  2. Union Bank of India
  3. HDFC Bank
  4. ICICI Bank
  5. Kotak Mahindra Bank
  6. Axis Bank
  7. Bank of Maharashtra
  8. Andhra Bank
  9. Bank of Baroda
  10. Canara Bank
  11. DCB
  12. Federal Bank
  13. Bank of Karnataka
  14. Punjab National Bank
  15. United Bank of India
  16. UCO Bank
  17. RBL Bank
  18. OBC Bank
  19. Vijaya Bank
  20. Yes Bank
  21. Bank of Allahabad
  22. Standard Chartered Bank
  23. HSBC
  24. Jammu and Kashmir Bank
  25. Paytm Payment Bank
  26. Dena Bank
  27. City Union Bank
  28. Kashi Gomti Gramin Bank

यूपीआई इस्तेमाल करने के क्या फायदे हो सकते हैं ?

वैसे तो आजकल कैशलेस रूप में लोग भुगतान करना बिल्कुल पसंद करते हैं और इसी का एक जीता जागता उदाहरण UPI पेमेंट ट्रांजैक्शन है।यूपीआई का इस्तेमाल करके हम अनेकों प्रकार के लाभ प्राप्त कर सकते हैं, कुछ लाभ इस प्रकार से निम्नलिखित रुप में बताए गए हैं।

  • पैसे लेने एवं देने के लिए हमें कभी भी बैंकों में लंबी-लंबी लाइनों के बीच खड़े होने की आवश्यकता नहीं है, UPI के माध्यम से हम बड़ों का आदान-प्रदान कर सकते हैं, वह भी घर बैठे बिना किसी अतिरिक्त भुगतान इस सुविधा का लाभ उठा सकते हैं।
  • UPI के माध्यम से पैसों का आदान-प्रदान चंद सेकंड में पूरा हो जाता है और हमें पैसे को प्राप्त करने में या फिर भेजने में किसी भी प्रकार की आवश्यकता नहीं होती।
  • UPI के माध्यम से किसी भी प्रकार का भुगतान या फिर पैसों का आदान प्रदान करना बिल्कुल सुरक्षित है।
  • हम किसी भी UPI सपोर्ट करने वाले एप्लीकेशन का इस्तेमाल करके किसी भी प्रकार का ऑनलाइन भुगतान बेहद आसान प्रक्रिया के माध्यम से कर सकते हैं।
  • एक ही UPI सपोर्ट करने वाले एप्लीकेशन के जरिए हम किसी भी बैंक को ऐड करके उसे पैसे भेज सकते हैं या रिसीव कर सकते हैं।
  • आजकल तो UPI  के माध्यम से भुगतान करने पर हमें कुछ प्रतिशत की छूट भी प्राप्त हो जाती है।
  • UPI के जरिए हम 24 घंटे एवं 365 दिनों में चाहे जो पैसों का आदान-प्रदान कर सकते हैं।
  • UPI के माध्यम से हम इलेक्ट्रॉनिक बिल, मोबाइल रिचार्ज, डीटीएच का रिचार्ज, पानी का बिल, गैस का बिल और भी अनेकों प्रकार के चीजों का भुगतान आसानी से कर सकते हैं।
  • हमें पैसों का आदान प्रदान करने के लिए किसी भी बैंक खाता धारक का खाता संख्या, उसका नाम, IFSC कोड आदि को बार-बार दर्ज नहीं करना पड़ता है, केवल वर्चुअल आईडी के जरिए ही पैसों का आदान-प्रदान बार-बार हम आसानी से कर सकते हैं।

निष्कर्ष:-

हमें उम्मीद है, कि आप सभी लोगों को UPI Kya Hai ?, Upi का इस्तेमाल कैसे करें ?, और Upi के क्या क्या लाभ हो सकते हैं ?, इन विषयों से संबंधित हमारे इस लेख को आप अवश्य पसंद करेंगे।

हमें यह भी उम्मीद है, कि आप सभी लोगों को इस विषय से संबंधित किसी अन्य प्रकार के आर्टिकल को पढ़कर जानकारी हासिल करने की आवश्यकता नहीं पड़ेगी।

यदि आप इसमें से संबंधित अपने कुछ विचार या फिर सिखाओ हमारे साथ साझा करना चाहते हैं, तो हमें कमेंट बॉक्स में अवश्य बताएं। हमें आपके द्वारा बताए गए सुझावों को अपनाने में बेहद खुशी होगी।

FAQ :

 

  • प्रश्न: क्या हम केवल यूपीआई सपोर्ट करने वाले एप्लीकेशन का ही इस्तेमाल करके यूपीआई ट्रांजैक्शन कर सकते हैं ?

    उत्तर:- आप लोग किसी भी बैंक का पेमेंट एप्लीकेशन इस्तेमाल कर सकते हैं, यह यूपीआई पेमेंट एप की तरह ही कार्य करता है, इसके कुछ अलग या विशेष नहीं होता।
  • प्रश्न: यूपीआई पेमेंट एप्लीकेशन का इस्तेमाल ट्रांजैक्शन करने के लिए क्या हम निशुल्क रूप में कर सकते हैं ?उत्तर:- जी बिल्कुल आप किसी भी यूपीआई सपोर्ट करने वाले एप्लीकेशन का इस्तेमाल ऑनलाइन ट्रांजैक्शन में निशुल्क रूप में कर सकते हैं।
  • प्रश्न: क्या मैं बिना यूपीआई पिन के किसी भी प्रकार का ऑनलाइन ट्रांजैक्शन कर सकता हूं ?

    उत्तर:- जी बिल्कुल भी नहीं बिना यूपीआई पिन के आप किसी भी प्रकार का ऑनलाइन ट्रांजैक्शन नहीं कर सकते हैं।
  • प्रश्न: मैं कौन सा यूपीआई सपोर्ट करने वाला एप्लीकेशन डाउनलोड करूं ?

    उत्तर:- प्ले स्टोर पर आपको बहुत सारे यूपीआई सपोर्ट करने वाले एप्लीकेशन मिल जाएंगे परंतु आप यूज़र का रिव्यू और कमेंट देखकर ही किसी भी प्रकार के एप्लीकेशन का इस्तेमाल करें।
  • प्रश्न: क्या यूपीआई के माध्यम से ऑनलाइन ट्रांजैक्शन करने में किसी भी प्रकार का अतिरिक्त शुल्क देना पड़ता है ?

    उत्तर :- आप किसी भी यूपीआई एप्लीकेशन का इस्तेमाल बिल्कुल निशुल्क रूप में कर सकते हैं।
  • प्रश्न: यूपीआई से संबंधित किसी भी प्रकार की कंप्लेंट करने के लिए क्या करें ?

    उत्तर:- यूपीआई एप्लीकेशन में आपको यूपीआई से संबंधित किसी भी प्रकार की जानकारी या शिकायत दर्ज करने के लिए एक अलग से विकल्प प्रदान किया जाता है, आप उस विकल्प का इस्तेमाल अपने समस्याओं का निवारण करने हेतु कर सकते हैं।
  • प्रश्न: क्या यूपीआई का इस्तेमाल पूरे विश्व में ऑनलाइन ट्रांजैक्शन के लिए किया जाता है ?

    उत्तर :- जी बिल्कुल नहीं यूपीआई का इस्तेमाल केवल हमारे भारत देश में ही किया जाता है, अन्य देशों में ऑनलाइन ट्रांजैक्शन की प्रक्रिया थोड़ी भिन्न हो सकती है।
  • प्रश्न: भारत में यूपीआई का प्रारंभ कब से किया गया है ?

    उत्तर:- हमारे भारत देश में यूपीआई का प्रारंभ 11 अप्रैल वर्ष 2016 को किया गया।
  • प्रश्न: क्या यूपीआई से ऑनलाइन ट्रांजैक्शन करने में भी किसी भी प्रकार की लिमिट का सामना हमें करना पड़ता है ?उत्तर:- प्रत्येक दिन में हम प्रत्येक यूपीआई ट्रांजैक्शन में एक लाख रुपए तक का आदान-प्रदान सात से आठ बार के ट्रांजैक्शन के दौरान कर सकते हैं।
  • प्रश्न: क्या हम यूपीआई एप्लीकेशन का इस्तेमाल एंड्रॉयड और आईओएस प्लेटफॉर्म पर कर सकते हैं ?

    उत्तर :- यूपीआई एप्लीकेशन का इस्तेमाल हम एंड्रॉयड और आईओएस दोनों ही प्लेटफार्म पर कर सकते हैं।

Admin

दोस्तों, मेरे इस ब्लॉग पर आपका स्वागत है मै इस Website का Owner and CEO हूँ यहाँ पर आपको कई जानकारिया हिंदी में मिलेगी इसलिए हमें अपना सहयोग देते रह। धन्यवाद

You may also like...

advertisement
advertisement